दूरसंचार मंत्रालय का आदेश लद्दाख में एलएसी पर भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक सामना करने के मद्देनजर आता है।

[REPRESENTATIVE IMAGE]

[REPRESENTATIVE IMAGE]

भारत के दूरसंचार मंत्रालय ने बुधवार को सभी संस्थाओं को निर्देश दिया कि वे अपनी खरीद को ‘मेड इन इंडिया’ उत्पादों तक सीमित रखें। यह कदम गालवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच एक हिंसक झड़प के मद्देनजर आता है, जिसके परिणामस्वरूप 20 सैनिकों को ड्यूटी के दौरान अपनी जान गंवानी पड़ी।

नवीनतम जानकारी के अनुसार, दूरसंचार मंत्रालय ने बीएसएनएल, एमटीएनएल और अन्य सहायक कंपनियों को उन्नयन में चीनी उपकरणों से बचने के लिए कहा है। इसके अलावा, मंत्रालय ने सभी संबंधित विभागों को यह भी निर्देशित किया है कि वे भारत में निर्मित सामानों की खरीद को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता के रूप में “आत्मानिर्भर भारत” के सेंटर्स पुश के हिस्से के रूप में प्राथमिकता दें।

दूरसंचार मंत्रालय का यह निर्णय उसकी सहायक कंपनियों द्वारा 4 जी उन्नयन खरीद में एक प्रमुख भूमिका निभा सकता है।

सरकार के सूत्रों के अनुसार, दूरसंचार विभाग ने अपनी सहायक कंपनियों को 4 जी सुविधाओं के उन्नयन के लिए निविदाओं को फिर से बनाने का आदेश दिया है।

31 मई को, भारत संचार निगम (बीएसएनएल) ने 8,697 करोड़ रुपये का 4 जी टेंडर रद्द कर दिया था, जो इस साल के मार्च में जारी किया गया था। रद्द करने का आरोप उन आरोपों से लगाया गया था, जो सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (PSU) सार्वजनिक खरीद मानदंडों का पालन करने में विफल रहे थे।

यह निर्णय COVID दुनिया में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के “अत्मानबीर भारत” (आत्म-निर्भर भारत) के लिए भी था।

IndiaToday.in आपके पास बहुत सारे उपयोगी संसाधन हैं जो कोरोनावायरस महामारी को बेहतर ढंग से समझने और अपनी सुरक्षा करने में आपकी मदद कर सकते हैं। हमारे व्यापक गाइड (वायरस कैसे फैलता है, सावधानियां और लक्षण के बारे में जानकारी के साथ), एक विशेषज्ञ डिबंक मिथकों को देखें, और हमारे समर्पित कोरोनावायरस पृष्ठ तक पहुंचें।
ऑल-न्यू इंडिया टुडे ऐप के साथ अपने फोन पर रियल-टाइम अलर्ट और सभी समाचार प्राप्त करें। वहाँ से डाउनलोड

  • Andriod ऐप
  • आईओएस ऐप

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here